आज की खबर आज
National

अधीर रंजन चौधरी के डीएसपी खान वाले बयान पर बीजेपी लाल

नई दिल्ली। आतंकियों की मदद में गिरफ्तार जम्मू-कश्मीर के डीएसपी देविंदर सिंह पर बीजेपी और कांग्रेस में जुबानी जंग शुरू हो गई है। बीजेपी ने आज कांग्रेस पर जोरदार हमला बोलते हुए कहा कि देश की इस सबसे पुरानी पार्टी का पाकिस्तान के साथ कुछ न कुछ कनेक्शन जरूर है। लोकसभा में कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी के डीएसपी देविंदर सिंह की गिरफ्तारी में धर्म ढूंढने पर करारा प्रहार हुए बीजेपी ने कहा कि कांग्रेस ने वही किया है जिसमें वह निपुण है, भारत के ऊपर हमला और पाकिस्तान को बचाने की कोशिश।
बीजेपी प्रवक्ता संबित पात्रा ने कहा कि आव देखा न ताव, कांग्रेस ने धर्म ढूंढ लिया है। आतंकवाद पर धर्म की राजनीतिक करना कांग्रेस की राजनीतिक तरीका रहा है। भगवा आतंकवाद, हिंदू आतंकवाद जैसे शब्द कांग्रेस ने ही गढ़े हैं। सोनिया गांधी के इशारे पर यह सब हो रहा है। उन्होंने कहा कि कुछ तो गड़बड़ है, कुछ तो कनेक्शन पाकिस्तान के साथ है। वरना, बार-बार वही जुबान पाकिस्तान बोलता है। शाम तक हाफिज सईद और इमरान खान, दोनों का ट्वीट आ जाएगा समर्थन में। हेडलाइंस चलने शुरू हो गए हैं पाकिस्तान के मीडिया में। वहां के मीडिया ने इस विषय को उठा लिया है। आप इंतजार कीजिए आज फिर से हाफिज सईद कहेगा कि आई लव यू कांग्रेस। वह पहले भी कह चुका है कि मैं कांग्रेस से बहुत प्यार करता हूं। वह फिर से कांग्रेस के साथ अपनी मोहब्बत का इजहार करेगा। पात्रा ने कहा कि डीएसपी का आतंकियों के साथ कनेक्शन निकला और इसीलिए उसकी गिरफ्तारी हुई है। कांग्रेस हिंदुओं को आंतकवादी साबित करने की लगातार कोशिश करती रही है। शशि थरूर, रणदीप सुरजेवाला और पी चिदंबरम कहते रहे हैं कि भारत हिंदू पाकिस्तान बन जाएगा। तरुण गोगोई ने कहा था मोदीजी हिंदू जिन्ना है।
पात्रा ने कहा कि अधीर और सुरजेवाला ने अब दूसरा सवाल उठाया है कि पुलवामा अटैक की फिर से जांच की जाए। उन्होंने कहा कि मैं राहुल गांधी और सोनिया गांधी से पूछता हूं कि क्या आपको पुलवामा के हमलावरों को लेकर रत्तीभर भी संशय है। अपने बयान पर मचे बवाल के बीच कांग्रेस नेता अधीर रंजन ने सफाई दी है। उन्होंने कहा कि बीजेपी नेता कह रहे हैं कि हमें यूपी, कर्नाटक की मिसाल का पालन करना चाहिए। इन राज्यो में पुलिस प्रदर्शनकारियों पर पुलिस ने फायरिंग की जिसमें लोग मारे गए। इन्हीं कारणों से मैं यह कहने पर विवश हुआ कि क्यों आरएसएस-बीजेपी देविंदर सिंह मुद्दे पर चुप है। क्या देविंदर खान नाम होने पर भी ये ऐसे ही चुप रहते। जम्मू-कश्मीर के लेफ्टिनेंट गर्वनर गिरीश चंद्र मुर्मू के सलाहकार फारूक खान ने डीएसपी देविंदर मुद्दे पर बयानबाजी को दुर्भाग्यपूर्ण बताया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *