आज की खबर आज
National

उन्नाव रेप: प्रशासन के समझाने के बाद अंतिम संस्कार को राजी हुआ परिवार

उन्नाव। उन्नाव में दरिंदगी का शिकार हुई रेप पीड़िता के अंतिम संस्कार में सीएम योगी आदित्यनाथ को बुलाने पर अड़े परिजन आखिरकार मान गए हैं। प्रशासन ने आज सुबह रेप पीड़िता के परिजनों को कई घंटे तक समझाया-बुझाया, इसके बाद परिवार अंतिम संस्कार के लिए तैयार हो गया है। इससे पहले रेप पीड़िता के शव का अंतिम संस्कार सुबह ही होना तय हुआ था लेकिन परिजनों ने सीएम को मौके पर बुलाने की मांग रखते हुए अंत्येष्टि से इनकार कर दिया था।
रेप पीड़िता के परिवार को मनाने के लिए प्रशासन को काफी मशक्कत करनी पड़ी। परिजन किसी भी हाल में सीएम को बुलाने पर अड़े थे। प्रशासन द्वारा परिवार को सुरक्षा मुहैया कराए जाने के आश्वासन के बाद घंटों चली रस्साकशी खत्म हुई। इससे पहले शनिवार शाम रेप पीड़िता का शव गांव पहुंचा। यूपी की योगी आदित्यनाथ सरकार ने मामले की फास्ट ट्रैक कोर्ट में सुनवाई का फैसला किया है। कानून व्यवस्था के मद्देनजर सीतापुर, हरदोई और लखनऊ से पुलिस फोर्स को उन्नाव बुलाया गया है। इसके अलावा दो प्लाटून पीएसी को भी मौके पर तैनात किया गया है। रेप पीड़िता की बहन ने इससे पहले मीडिया से कहा कि जब तक योगीजी यहां नहीं आते हैं मैं अपनी बहन का दाह संस्कार नहीं करूंगी। मैं योगीजी से व्यक्तिगत रूप से बात करना चाहती हूं। मैं चाहती हूं कि आरोपी फांसी के फंदे पर लटकाएं जाएं।
योगी सरकार ने पीड़ित परिवार को 25 लाख रुपये के मुआवजे का चेक सौंपा था। इस बीच रेप विक्टिम की बहन ने सरकारी नौकरी की मांग की है। पीड़िता की बहन ने कहा कि मैं मांग करती हूं कि मुझे सरकारी नौकरी मिलनी चाहिए। गैंगरेप के दोषियों को सजा दिलाने के लिए संघर्ष कर रही उन्नाव की बेटी को गुरुवार सुबह जिंदा जलाने की कोशिश की गई थी। बाद में इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई। पुलिस चाहती थी कि रात में ही अंतिम संस्कार हो जाए लेकिन परिवार के लोग नहीं माने। उन्नाव के जिला प्रशासन ने परिवार से बातचीत के बाद रविवार सुबह पीड़िता के शव का अंतिम संस्कार का फैसला किया था।
इससे पहले शनिवार शाम पीड़िता के शव को कड़ी सुरक्षा के बीच दिल्ली से उन्नाव लाया गया था। पीड़िता के साथ गैंगरेप के आरोपियों ने उसे गुरुवार सुबह जिंदा जला दिया था। 90 फीसदी तक झुलसी पीड़िता को पहले लखनऊ और फिर दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में भर्ती किया गया था। शुक्रवार रात पीड़िता की मौत हो गई, जिसके बाद देशभर में इस घटना को लेकर विरोध प्रदर्शन हुए।

Join the discussion

  1. ปั้มไลค์

    Like!! Thank you for publishing this awesome article.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *