आज की खबर आज
Agra

बीमार या बंद उद्योगों का पुनर्वास कराये सरकार

ऐसोचैम ने मुख्यमंत्री को भेजे मंदी दूर करने के उपाय

आगरा। उद्यमियों की संस्था ऐसोचैम ने प्रदेश में व्याप्त औद्योगिक मंदी पर चिंता जताते हुए मुख्यमंत्री आदित्यनाथ योगी को मंदी दूर करने के उपाय सुझाये हैं।
ऐसोचैम यूपी के आगरा चैप्टर की कार्यकारिणी बैठक में गम्भीर औद्योगिक मंदी और गिरती अर्थव्यवस्था के प्रति चिन्ता जताई गई। बैठक में औद्योगिक मंदी दूर करने के सुझावों के तहत कहा गया कि प्रदेश सरकार भले ही निवेशकों को राज्य में आमंत्रित करे, लेकिन प्रदेश में हजारों की संख्या में बीमार या बंद चल रही एमएसएमई इकाइयों के पुनर्वास के लिये गंभीर प्रयासों की जरूरत है। ऐसी औद्योगिक इकाइयों की समस्यायें चिन्हित करके क्षेत्र उद्योग विभाग के अधिकारियों को हल निकालने के निर्देश दिये जाएं। बैंकों के कर्ज में फंसकर बंद उद्योगों का ऋण पुनर्गठित किया जाये। उत्पादन के विक्रय के लिये आसान शर्तों पर ऋण दिये जायें ताकि बाजार में मांग बढ़े।
बैठक में कहा गया कि सरकार ने 99 साल के पट्टे पर जो कारखाने बनाकर दिये हैं उनकी पूरी कीमत पहले ही वसूल की जा चुकी है, पट्टे की शर्तों की वजह से न तो उद्योगों का उन्नतिकरण हो रहा है और न समय के साथ उत्पादन मे कोई बदलाव हो रहा है। पट्टे की शर्तों के उल्लंघन के डर से और सम्पत्ति के बंटवारे आदि की समस्या से उद्योग बंदी के कगार पर है। सरकार को कुछ कनवर्जन चार्ज लेकर इन उद्योगों को फ्रीहोल्ड कर देना चाहिये, जिससे कारखाने पूरी क्षमता से चल सकें।
वक्ताओं ने कहा कि बिजली की दरों की बढ़ोत्तरी की वजह से व्यापारिक प्रतिस्पर्धा में प्रदेश पिछड़ गया है। बिजली उचित मूल्य पर उपलब्ध कराई जाये व सरकार बिजली की हर प्रकार की चोरी रोके। इसके अलावा प्रदूषण के काल्पनिक आधार पर उद्योग बंदी न करायी जाये। यदि कोई उद्योग थोड़ा सा भी प्रदूषण करता है तो उस प्रदूषण को दूर करने और शोधन करने के सरकारी स्तर पर उपाय किये जाये न कि उद्योगों को नष्ट किया जाये। उत्सर्ग निस्तारण प्लांट सरकार को लगाने चाहिये।
बैठक की अध्यक्षता अध्यक्ष विष्णु भगवान अग्रवाल ने की। इस दौरान संयोजक मनीष अग्रवाल, उपाध्यक्ष सुरेश चंद्र बंसल व विवेक अग्रवाल, उमंग अग्रवाल, रवि अग्रवाल, सचिव सचिन अग्रवाल आदि उपस्थित रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *