आज की खबर आज
Agra

कल पूर्णिमा के श्राद्ध के साथ शुरू होगा पितृपक्ष

आगरा। पितरों के तर्पण और श्राद्ध कर्म के लिये निर्धारित पितृपक्ष की शुरुआत कल 13 सितम्बर से शुरू हो रही है। यह श्राद्धपक्ष 28 सितम्बर को अमावस्या तक चलेगा। पंद्रह दिन चलने वाले इस पक्ष के दौरान तिथि के अनुसार पितरों का श्राद्ध किया जाता है। इस अवधि में इस बार तिथि का क्षय होने से तेरस और चौदस दोनों दिन के श्राद्ध एक ही दिन होंगे।
प्रमुख ज्योतिषाचार्य डॉ. वेद प्रकाश प्रचेता ने कहा कि चंद्र पंचाग के अनुसार, 13 सितम्बर शुक्रवार को दोपहर में पूर्णिमा तिथि की शुरुआत हो रही है, इसलिये इसदिन पूर्णिमा का श्राद्ध करना श्रेयस्कर है। जिन लोगों के माता-पिता स्वर्गवासी हो गए हैं उन्हें इस पक्ष में प्रात:काल नदी, तालाब या घर में स्नान के बाद तिल, अक्षत, द्रव्य और हाथ में कुश लेकर वैदिक मंत्रों से सूर्य के सामने खड़े होकर पितरों को जल का तर्पण करना चाहिये।
हिंदू कलेंडर के अनुसार जिस तिथि को परिजनों का निधन हुआ हो, उसी तिथि को पितृ पक्ष में श्राद्ध किया जाता है। माना जाता है कि पितृ पक्ष के दौरान विधिवत पूजा करने से पूर्वजों को मृत्युलोक में भटकना नहीं पड़ता है। कठोपनिषद, गरुड़ पुराण, मार्कंडेय पुराण के अनुसार जिन परिवारों के लोग पितृ पक्ष के दौरान पितरों के नाम से अन्न जल का दान नहीं करते हैं, श्राद्ध कर्म नहीं करते हैं उनके पितर धरती से भूखे-प्यासे लौट जाते हैं और इससे परिवार को पितृ दोष लगता है। पंद्रह दिन के पितृपक्ष में शुभ कार्य भी नहीं किये जाते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *