आज की खबर आज
Agra

कमांडेंट का दावा, ताज पर भगवा का वीडियो है फर्जी

  • वीडियो फुटेज में खाली हाथ हिलाता दिख रहा युवक
  • फोटो तकनीकी का प्रयोग कर बाद में जोड़े गये ध्वज
ताजमहल पर भगवा फहराते युवक का वीडियो से लिया गया चित्र।

आगरा। ताजमहल पर सुरक्षा का जिम्मा संभाल रहे केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल के कमांडेंट ब्रजभूषण का दावा है कि ताज में भगवा झंडे लहराये जाने का वायरल हो रहा वीडियो पूरी तरह फर्जी है और इसमें झंडों को बाद में तकनीकी की सहायता से जोड़ा गया है।
गौरतलब है कि ताजमहल में भगवा झंडा लहराते युवक का वीडियो मंगलवार को तेजी से सोशल मीडिया पर वायरल हुआ। कुल एक मिनट 14 सेकेंड की वीडियो फुटेज में ताजमहल के उद्यान के निकट एक बेंच पर एक युवक बैठा है और उसके पीछे एक युवक खड़ा है। पीछे खड़ा युवक कभी अपने दोनों हाथों में भगवा झंडे लहराता है। कभी बैठे हुए के कंधे पर ध्वज समेत दोनों हाथों को रख देता है। झंडे लहराने वाला युवक सिर पर सफेद साफा भी बांधे हुए है। वीडियो में एडिटिंग कर हिंदूवादी गाना जोड़ा गया है।
सीआईएसएफ कमांडेंट ने कहा कि इस वीडियो के बारे में पता लगते ही उन्होंने सभी सीसीटीवी फुटेज चेक कराये। इनमें कोई युवक भगवा झंडा लहराते हुए नहीं मिला। उन्होंने दावा किया कि यह वीडियो नौ सितम्बर को दोपहर करीब तीन बजे का है। ताजमहल की सुरक्षा के लिये लगे सीसीटीवी में दोनों युवक स्पष्ट दिख रहे हैं। इनमें से पीछे खड़ा युवक बिना किसी झंडे के हाथ में कोरे हाथ ही हिलाता नजर आता है।
कमांडेंट ने दावा किया कि फोटो तकनीकी का प्रयोग करके झंडों को बाद में जोड़ा गया है, उसी प्रकार गाने को भी बाद में डाला गया है। उन्होंने कहा कि वैसे भी सुरक्षा जाम में किसी कपड़े को ले जाने की जांच संभव नहीं है। कई बार सुरक्षाकर्मियों को मानवीय आधार पर बच्चों के लिये बिस्कुट या मरीजों के लिये खाने की वस्तुएं ले जाने की अनदेखी करनी पड़ती है। लेकिन किसी भी तरह की विध्वंसक वस्तु को न जाने देने के प्रति पूरी ऐहतियात बरती जाती है।
उधर भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण के संरक्षण सहायक अंकित नामदेव ने भी कहा कि विभाग अपने स्तर पर पूरी जांच पड़ताल में जुटा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *