आज की खबर आज
National

उरी में घुसपैठ कराने की पाक कोशिश नाकाम

सेना ने घुसपैठियों को खदेड़ दिया

श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाले आर्टिकल 370 के ज्यादातर प्रावधानों को खत्म किए जाने से पाकिस्तान बौखलाया हुआ है। उसकी कोशिश आतंकियों की घुसपैठ कराकर जम्मू-कश्मीर में हिंसा भड़काने की है लेकिन भारतीय सुरक्षा बलों की चौकसी से उसके नापाक मंसूबे पूरे नहीं हो रहे हैं। सेना से जुड़े सूत्रों के मुताबिक पाकिस्तानी सेना द्वारा देर रात आतंकी घुसपैठ कराने की बड़ी कोशिश को नाकाम कर दिया गया। सेना ने घुसपैठियों को खदेड़ दिया।
सूत्रों के मुताबिक, देर रात जम्मू-कश्मीर के उरी सेक्टर में आतंकवादियों ने घुसपैठ की कोशिश की। उनकी घुसपैठ कराने के लिए पाकिस्तानी सेना ने सीजफायर तोड़ते हुए भारी गोलीबारी की। सूत्रों ने बताया कि पाकिस्तानी सेना आतंकियों के एक समूह की भारतीय सीमा में घुसपैठ कराने की कोशिश में थी ताकि वे जम्मू-कश्मीर में हमले कर सकें और हिंसा भड़का सकें। लेकिन भारतीय सेना के मुंहतोड़ जवाब से वे अपने नापाक मंसूबों में कामयाब नहीं हो पाए। भारतीय सेना हाई अलर्ट पर है और पाकिस्तान की किसी भी हिमाकत से निपटने के लिए पूरी तरह तैयार है।
दरअसल, स्वतंत्रता दिवस समारोहों के पहले सेना और बीएसएफ, भारत-पाकिस्तान सीमा के आसपास कड़ी चौकसी बरत रही हैं। जम्मू क्षेत्र में ज्यादातर जिलों में पुलिस पूरी सतर्कता बरत रही है और जम्मू शहर में जांच तेज कर दी गई है। अनुच्छेद 370 के तहत जम्मू-कश्मीर का विशेष दर्जा खत्म किए जाने और राज्य को दो केंद्रशासित प्रदेशों में बांटे जाने के फैसले के बाद यह पहला स्वतंत्रता दिवस है।
राज्य गृह विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि जम्मू-कश्मीर को लेकर केंद्र के फैसले को ध्यान में रखते हुए राज्य में खास प्रबंध किए गए हैं। एक आईएएस अधिकारी ने बताया कि केंद्र सरकार से अलर्ट मिला है और स्वतंत्रता दिवस समारोह के लिए हम विशेष सुरक्षा इंतजाम कर रहे हैं। राज्य के अन्य सभी हिस्से में सुरक्षा व्यवस्था बढ़ाई गई है। एक अधिकारी ने बताया कि 15 अगस्त के मद्देनजर एलओसी के आसपास सेना अलर्ट पर है और कड़ी चौकसी बरती जा रही है। इसी तरह अंतरराष्ट्रीय सीमा के पास, खासकर संवेदनशील क्षेत्रों में बीएसएफ कड़ी निगरानी कर रही है। किसी भी अप्रिय घटना को टालने के लिए सीमाई राज्य में सुरक्षा के असाधारण इंतजाम किए गए हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *