आज की खबर आज
Agra

पुलिस ‘अलर्ट’ में भी कैसे हो गया ताजगंज में बवाल?

  • शोभायात्रा निकलने की भी नहीं थी पुलिस के पास कोई सूचना
  • थाना पुलिस 45 मिनट तक भी नहीं पहुंच पाई घटनास्थल पर

जम्मू-कश्मीर से धारा 370 के खात्मे के बाद से यूपी भर में अलर्ट है। स्वतंत्रता दिवस के मद्दनेजर भी पुलिस अलर्ट है। आगरा पुलिस की अलर्टनेस की असलियत मंगलवार को ताजगंज में हुए बवाल के बाद सामने आ गई। ताजगंज के इस बवाल में पुलिस की बड़ी चूक सामने आई है। शोभायात्रा निकलने की सूचना न तो थाना पुलिस के पास थी और न एलआईयू के पास। दूसरी चूक यह रही कि हाई अलर्ट मोड नतीजा यह हुआ कि एक बवाली को नहीं पकड़ा जा सका।
इस मामले में वाल्मीकि पक्ष के लोगों की तहरीर पर एक को नामजद करते हुए 300 अज्ञात के खिलाफ मुकद्मा दर्ज किया गया है। आज सुबह तक पुलिस सिर्फ चार लोगों की ही गिरफ्तारी कर पाई थी।

शासन के आदेश सिर्फ
फोटो ख्ािंचाने तक सीमित
आगरा। शासन के आदेश अब सिर्फ फोटो ख्ािंचाने तक सीमित हो गए हैं। शासन से हाई अलर्ट जारी हुआ था तो अधिकारियों ने सड़क पर खड़े होकर फोटो ख्ािंचाकर आलाअधिाकरियों और मीडिया को भेज दिए। लखनऊ में बैठे अधिकारियों को भी लगा कि पुलिस चौकन्ना है। अपने क्षेत्र में थाना पुलिस चप्पे-चप्पे पर नजर रखे हुए है, लेकिन यहां तो यह भी नहीं पता था कि शोभायात्रा निकलने वाली है।

लघुशंका को लेकर छिड़ा
विवाद बवाल में बदला

  • शाहगंज में भी बवाल की नौबत बन गई, दो पक्षों में जमकर हुई मारपीट

आगरा। ताजगंज में हुए बवाल के पीछे की मुख्य वजह महिलाओं व बच्चों के सामने खुले में लघुशंका करना रहा। छोटी सी बात को लेकर छिड़ा विवाद बवाल में बदल गया।
प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि रात को साढ़े नौ बजे राठौर सभा की शोभायात्रा पाकटोला से निकली। यात्रा के दौरान कुछ लोग बाल्मीकि बस्ती में एक दुकान के पास खड़े हो गए। इनमें से कुछ लोग यहां लघुशंका करने लगे। पास में ही महिलाएं और बच्चे भी बैठे थे। बस्ती के लोगों ने टोका तो उन्होंने अपने कुछ साथियों को बुला लिया। इसके बाद वे वाल्मीकि बस्ती में ऐलान देने लगे। वाल्मीकि बस्ती के भी कई लोग एकजुट हो गए। इसके बाद दोनों पक्ष आमने-सामने आ गए। उपद्रवियों ने दो बाइकें और एक खोखा जला दिया। बस्ती के क ई लोग घरों में कैद हो गए। करीब 45 मिनट तक पथराव होता रहा। पुलिस सूचना पर भी नहीं पहुंची। पुलिस 45 मिनट बाद जब पहुंची, तब तक पथराव जारी था। इसके बाद भी एक भी उपद्रवी को नहीं पकड़ा जा सका। थाना पुलिस अन्य थानों की पुलिस के आने का इंतजार करती रही। कई थानों का फोर्स और बड़े अधिकारियों के पहुंचने के बाद स्थिति नियंत्रण में आई। इंसपेक्टर ताजगंज अनुज कुमार ने बताया कि चार लोगों को रात में पकड़ लिया है। अन्य की तलाश की जा रही है।
इधर दूसरी ओर शाहगंज में बवाल की नौबत बन आई। यहां दो पक्षों में जमकर मारपीट हुई। दोनों पक्षों ने अपने-अपने समर्थकों को बवाल के लिए बुला लिया। पुलिस यहां भी काफी देर में पहुंची। बताया जा रहा है कि केसर विहार में सोहिल स्ट्रीट लाइट सही कराने को तार लगा रहा था। इससे अन्य घरों की विजली डिस्टर्ब हो रही थी। समीर ने बाहर आकर उससे मना किया कि वह तार नहीं डाले। बिजली आ-जा रही है। इस पर दोनों में झगड़ा हो गया। इसके बाद मारपीट शुरू हो गई। दोनों ने अपने समर्थकों को फोन कर दिया। काफी देर तक दोनों पक्षों में मारपीट होती रही। इसके बाद पुलिस पहुंची। पुलिस ने दोनों पक्षों के चार युवकों को पकड़ा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *