आज की खबर आज
Agra

पकड़ा गया गर्भवती पत्नी का कातिल

पूर्व पार्षद केशव ने पुलिस के समक्ष गुनाह कबूला, बोला- घर ले जाने की जिद कर रही थी इसलिए उसे मार डाला

आगरा। थाना हरीपर्वत के नखासा (रघुनाथ टाकीज) में गर्भवती महिला रजनी की हत्या के आरोपी पति को पुलिस ने देर रात गिरफ्तार कर लिया। आरोपी से अभी पूछताछ चल रही है। आला कत्ल बरामदगी का प्रयास किया जा रहा है। पुलिस की मानें तो आरोपी ने अपना गुनाह कबूल करते हुए बताया है कि गर्भवती होने के बाद रजनी उसे घर ले चलने की जिद पर अड़ी हुई थी। वह पहले से शादीशुदा था। वह नहीं चाहता था कि उसकी पारिवारिक जिंदगी में किसी प्रकार का खलल पड़े, इसलिए उसने रजनी की हत्या कर दी। हत्यारोपी ने यह भी कहा कि वह सोच रहा था कि पकड़ में नहीं आएगा, लेकिन चोर के पैर कितने होते हैं, यह उसने देख लिया। अब उसे पछतावा हो रहा है। अपनी गलती की सजा तो उसे भोगनी ही पड़ेगी।
ज्ञातव्य है कि 12 अगस्त को सुबह हरीपर्वत के नखासा में रहने वाली रजनी की उसी के पति केशव कौटिल्य की बेहरमी से हत्या कर दी थी। उसका शव घर में पड़ा मिला था। गला काटकर हत्या की गई थी। परिजनों ने भी पति केशव पर आरोप लगाया था। केशव पूर्व पार्षद और स्कूल संचालक है। वारदात के बाद से ही वह घर से फरार था। पुलिस ने उसकी काफी तलाश की लेकिन उसके बारे में सुराग नहीं लग पा रहा था। सर्विलांस टीम को भी उसकी तलाश में लगाया गया। पुलिस और सर्विलांस टीम की जुगलबंदी से आरोपी केशव बीती रात पुलिस के हत्थे चढ़ गया।
पुलिस की पूछताछ में केशव ने जो बताया वह बेहद चौंकाने वाला था। उसने पुलिस को बताया कि शादीशुदा होने के बाद भी उसने रजनी से दूसरी शादी कर ली थी। वह रजनी को परिवार से अलग रखता था। रजनी गर्भवती हो गई थी। उसने कहा था कि वह गर्भपात करा दे लेकिन रजनी इस बात के लिए राजी नहीं हुई। गर्भवती होने के बाद उसने जिद करना शुरू कर दी थी कि वह अकेले में नहीं रहेगी। उसके घर में परिवार के दूसरे लोगों के साथ रहना है। इस बात को लेकर आए दिन विवाद होता था। उसे लगने लगा था कि रजनी उसके लिए मुसीबत बन जाएगी, इसलिए उसे ठिकाना लगाने के लिए योजना बना ली और उसे मौत के घाट उतार दिया।

हत्या करने के बाद कैंट से
ट्रेन पकड़ दिल्ली गया था
पुलिस ने बताया कि केशव को सर्विलांस की जानकारी थी लेकिन वह यह नहीं जानता था कि कानून के हाथ लंबे होते है। वह पहले अपनी बहन के घर दिल्ली गया। फिर रात 11 बजे वहां से लौटकर रजनी के पास पहुंचा। रजनी से विवाद होने के बाद उसे मौत के घाट उतार दिया। फिर उसने अपना मोबाइल बंद कर लिया। हाथ साफ करने के बाद वह घर से निकलकर आगरा कैंट पहुंचा और दिल्ली की टिकट लेकर ट्रेन में बैठ गया। दिल्ली पहुंचने के बाद उसने फिर से अपने मोबाइल को चालू कर लिया ताकि यह लगे कि वह दिल्ली में है। केशव ने पुलिस से कहा कि वह उसे मारना नहीं चाहता था लेकिन उसकी जिद ने उससे हत्या जैसा अपराध करा दिया। वह गुनहगार है। उसे अपनी गलती पर पछतावा भी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *