आज की खबर आज
Agra

पार्षद ने की डिमांड, बिल्डर ने रखी शर्त, हुई बोलती बंद

  • एक पॉश कॉलोनी में बन रही है बिल्डिंग
  • फ्लैट देने के लिए बनाया जा रहा है दबाव

महानगर की एक पॉश कॉलोनी में बन रही एक बिल्डिंग पर एक पार्षद की नजर ऐसी टिकी है कि उसने खुलेआम ‘पार्षद टैक्स’ की डिमांड कर डाली है। इसे पूरा करने के लिए बिल्डर ने भी एक शर्त डाल दी है, जिसने पार्षद की बोलती बंद कर दी है। इस डील ने पीएम मोदी और सीएम योगी के भ्रष्टाचार विरोधी अभियान पर सवाल खड़े कर दिये हैं। सवाल उठता है कि पार्षद भ्रष्टाचारी हो गये हैं? क्या उनकी ऐसी मानसिकता के चलते मानकों के अनुरूप विकास कार्य गुणवत्ता के साथ हो पाएंगे?
जी हां, एक पार्षद जिसे भाजपा के कद्दावर नेता का खास माना जाता है और जिसे नगर निगम के अधिकारी-कर्मचारी तो सर आंखों पर लेते हैं, को कोई नाराज नहीं करना चाहता। पार्षद के कहते ही नगर निगम-जल संस्थान कर्मी उच्च प्राथमिकता के साथ कार्य को पूरा कर देते हैं। इन्हीं पार्षद की पॉश कॉलोनी में एक बिल्डर फ्लैट्स बना रहा है। इस बिल्डिंग पर पार्षद का मन ललचाने लगा है। सूत्रों के अनुसार पार्षद ने पहले बिल्डर को नियमों का पाठ पढ़ाया। नियम पूरे न करने का दोषी तक ठहरा दिया। बिल्डिंग से वार्ड में होने वाली समस्याओं को गिना डाला। बिल्डर को मालूम है कि पार्षद की पहुंच कहां तक है। उसने पार्षद की धमकी भरे लहजे वाली बातें संयम से सुनीं। पार्षद को लगा कि बिल्डर पर दबाव बन गया है और फिर पार्षद ने बिल्डर के सामने एक फ्लैट की डिमांड रख दी। कई दिनों तक डिमांड मंथन में पड़ी रही। बिल्डर ने फ्लैट देने से इंकार किया तो पार्षद ने अपनी डिमांड बदल दी। अबकी बार बिल्डर के सामने दस लाख रुपये की डिमांड रख दी। इस बार बिल्डर ने पार्षद से दस लाख रुपये की डिमांड को पूरा करने की बात कही, लेकिन उसने एक शर्त भी रख दी। कहा कि दस लाख रुपये मिलेंगे, लेकिन बिल्डिंग बनने तक की जिम्मेदारी लेनी होगी। एडीए, नगर निगम, पुलिस एवं अन्य विभागों की कार्रवाई से बचानी की जिम्मेदारी लेनी होगी। उसे निर्माण में किसी तरह की कोई दिक्कत नहीं आनी चाहिए। बिल्डर की शर्त ने पार्षद की बोलती बंद कर दी है, जो अब चर्चा का विषय बनी हुई है। हालांकि पार्षद ने अभी हार नहीं मानी है। अपनी डिमांड पूरी करवाने के लिए और भी तरीके अपनाए जा रहे हैं। पार्षद का बिल्डर से डिमांड का संपर्क अभी टूटा नहीं है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *