आज की खबर आज
Agra

पिनाहट पुलिस पर आरोपी को जबरन छोड़ने का दबाव बना रहे थे नेताजी!

आरएसएस नेता होने की पुलिस को नहीं थी जानकारी, पता चलने पर बैकफुट पर आ गई

आगरा। खेत में मेड़ बनाने को लेकर चाचा और भतीजे के बीच हुए विवाद में गिरफ्तार हुए दोनों लोगों को जब पुलिस थाने लेकर आ गई तो पीछे से एक नेताजी पहुंच गए। वह पुलिस पर एक पक्ष को छोड़ने के लिए दबाव बनाने लगे, तभी इंसपेक्टर पिनाहट पहुंच गए। नेताजी ने इंसपेक्टर से भी उसी अंदाज में एक पक्ष को छोड़ने के लिए कहा। इंसपेक्टर ने बताया कि पुलिस ने दोनों का शांतिभंग में चालान कर दिया है लेकिन नेताजी कुछ सुनने को तैयार नहीं थे और झगड़े पर उतारू हो गए। इसके बाद इंसपेक्टर ने उन्हें भी हवालात में बंद करा दिया। उनके गिरफ्तार होते ही थाने पर हंगामा हो गया और पुलिस को पता लगी कि वह आरएसएस के नेता हैं तो इंसपेक्टर ने अपनी गलती मानते हुए उन्हें थाने से छोड़ दिया।
बता दें कि पिनाहट के गांव धन्नपुरा में रामनाथ और उनके भतीजे वकील के बीच खेत में मेड़ बनवाने को लेकर विवाद हो गया था। पुलिस ने दोनों को गिरफ्तार कर लिया था। दोनों का शांतिभंग में चालान किया गया था, तभी आरएसएस के नगर संघचालक सुनील गुप्ता पहुंचे। इंसपेक्टर ज्ञानेंद्र सोलंकी का आरोप है कि नेताजी ने अपना परिचय न देते हुए आरोपियों को छोड़ने के लिए हंगामा शुरू कर दिया। उनसे कहा कि आरोपियों के चालान हो गए हैं, लेकिन वह अभद्रता करने लगे। इस कारण से उन्हें भी कुछ देर के लिए हवालात में बंद कर दिया गया था। वहीं सुनील गुप्ता का कहना है कि वह तो पारिवारिक विवाद होने के कारण राजीनामा करने पहुंचे थे लेकिन इंसपेक्टर ने उन्हें भी बंद करा दिया। फिर जब अन्य कार्यकर्ताओं ने हंगामा किया तो कोतवाल ने उन्हें छोड़ दिया। अब सुनील गुप्ता का कहना है कि वह अधिकारियों से इंसपेक्टर की शिकायत करेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *