आज की खबर आज
Agra

पालीवाल पार्क को नया लुक देने को 31.78 करोड़ मांगे

नगर निगम का आॅडिटोरियम बनाने को 23.26 करोड़ की डिमांड भी रखी

महानगर के वंचित इलाकों में सीवर लाइन डालने के लिए शासन के स्तर से 273 करोड़ रुपये की डीपीआर स्वीकृत होते ही मेयर नवीन जैन कुछ और मांगों को लेकर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के दरबार में हाजिर हो गए। मेयर ने सीएम से कहा कि कुछ और क्षेत्रों में सीवर व पेयजल पहुंचाने के लिए अतिरिक्त धन की जरूरत है। उन्होंने सीएम के समक्ष पालीवाल पार्क को 31.78 करोड़ रुपये से नया लुक देने का प्रस्ताव भी रखा। साथ ही मांग की कि ताजनगरी में एक बड़ा आॅडिटोरियम बनाने के लिए 23 करोड़ रुपये स्वीकृत किए जाएं।
श्री जैन शुक्रवार को लखनऊ में मुख्यमंत्री से मिले और उन्हें पेयजल व सीवर के लिए 273 करोड़ की डीपीआर को मंजूरी दिए जाने के लिए धन्यवाद दिया। मेयर ने मुख्यमंत्री को दिए मांगपत्र में अवगत कराया कि शहर में अभी सिकंदरा वाटर वर्क्स से गंगाजल की जलापूर्ति की जा रही है जबकि जीवनी मंडी स्थित वाटर वर्क्स से प्रभावित क्षेत्रों में गंगाजल पहुंचना अभी शेष है।
पालीवाल पार्क के उच्चीकरण एवं सौंदर्यीकरण प्रस्ताव सीएम के समक्ष रखते हुए बताया कि यह प्रोजेक्ट 31.78 करोड़ का है। पालीवाल पार्क को बोटैनिकल पार्क की तर्ज पर विकसित करना चाहते हैं। पार्क की बाउंड्रीवाल और प्रवेश द्वार बनाने के साथ पार्क में सिटी म्यूजियम, साइकिल ट्रैक, सिटी क्लब, गार्डन फर्नीचर, योग थिएटर, ओपन जिम, पार्क के बीच में एक सुंदर झील और झील के चारों ओर पाथवे का निर्माण किया जाएगा। रेन वाटर हार्वेस्टिंग के साथ ही वाटर ट्रीटमेंट प्लांट, बच्चों के मनोरंजन के लिए टॉय ट्रेन और ओपन गेम्स, पार्क के चारों ओर स्ट्रीट फूड की सुविधा देने का भी प्रस्ताव में जिक्र है। जॉन्स पब्लिक लाइब्रेरी और म्यूजियम के जीर्णोद्धार का भी जिक्र किया गया है।
महापौर ने शहर में एक बड़े आॅडिटोरियम की जरूरत पर चर्चा करते हुए मुख्यमंत्री को बताया कि वर्तमान में नगर निगम का कोई भी आॅडिटोरियम नहीं है, इसलिए लगभग 23 करोड़ 26 लाख आॅडिटोरियम बनाने के लिए स्वीकृत किए जाएं। मुख्यमंत्री ने माना कि पर्यटन की दृष्टि से आगरा शहर को विकसित करने की जरूरत है इसलिए ज्ञापन के माध्यम से उठाई गई सभी मांगों को जल्द पूरा करने का प्रयास करेंगे।

उद्यान विभाग लगा सकता है अड़ंगा
आगरा। पालीवाल पार्क उद्यान विभाग की सम्पत्ति है। मेयर ने पार्क के सौंदर्यीकरण के लिए जो प्रस्ताव मुख्यमंत्री के समक्ष रखा है, अगर वह स्वीकृत होता है तो इसका मतलब यह होगा कि ये काम नगर निगम कराएगा। ऐसी स्थिति में नगर निगम को उद्यान विभाग की एनओसी लेनी पड़ेगी। संभव है कि उद्यान विभाग इसके लिए तैयार नहीं हो क्योंकि उद्यान विभाग पार्क के स्वरूप के साथ ज्यादा छेड़छाड़ करने के पक्ष में नहीं है। यह भी हो सकता है कि उद्यान विभाग द्वारा नगर निगम से कहा जाए कि वह खुद ही कार्य करेगा।

मां भगवती के जगराते में
उमड़ा भक्तों का सैलाब
आगरा। शिवाजी मार्केट एसोसिएशन द्वारा आयोजित 30वें देवी जागरण में रात भर मां भगवती की भेंटों पर भक्त झूमते रहे। माता की चौकी श्रीराम हनुमान मंदिर बिजलीघर चौराहे पर सजाई गई थी। समूचा बिजलीघर चौ

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *