आज की खबर आज
Cafe

जब समीक्षक मेरे काम की तारीफ करते हैं तो मैं डर जाता हूं : सलमान खान

बॉलीवुड अभिनेता सलमान खान ने कहा कि जब समीक्षक (क्रिटिक्स) उनके काम की तारीफ करते हैं, तो वह डर जाते हैं क्योंकि अधिकतर समय उनके काम को केवल प्रशंसक ही पसंद करते हैं जो उनके फिल्म कलेक्शन में अपना योगदान देते हैं।
मीडिया से बातचीत करते हुए सलमान ने कहा, मैं तब डर जाता हूं जब क्रिटिक्स मेरे काम की प्रशंसा करते हैं। प्राय: उनकी सोच से मेरी सोच या फिर मेरे दर्शकों की सोच नहीं मिलती है। इसलिए मैं आश्चर्यचकित हूं कि वे क्यों मेरी फिल्म को स्टार्स दे रहे हैं या इसके बारे में अच्छा लिख रहे हैं। सलमान की फिल्म ‘भारत’ ने बॉक्स आॅफिस पर 150 करोड़ रुपये से ज्यादा की कमाई कर ली है। उन्होंने कहा, हाल के दिनों में मैंने जिस तरह की फिल्में की हैं, वो इसलिए कीं क्योंकि मुझे इनकी स्टोरी पसंद आई। और, जब मैं कोई फिल्म करता हूं तो, उसके कुछ मापदंड होते हैं..मैं चाहता हूं कि लोग थियेटर में आए और जब वह थियेटर से निकलें तो अपने गमों को भूलकर, खुश होकर जाएं, हिरोइज्म के भाव, बेहतर इंसान बनने के भाव के साथ थियेटर से निकलें। ‘बजरंगी भाईजान’, ‘सुल्तान’ जैसी फिल्मों के लिए क्रिटिक्स से प्रशंसा प्राप्त कर चुके अभिनेता ने कहा, अगर मैं फिल्म के जरिए कोई संदेश भी देना चाहता हूं तो इसके लिए लंबा भाषण नहीं दे सकता..क्योंकि यह काफी बोरिंग हो जाता है। फिर कोई फन और इंटरटेनमेंट नहीं होता है।
यह पूछे जाने पर कि आपका सबसे बड़ा समीक्षक कौन है, उन्होंने कहा, मेरे पिता मेरे काम के सबसे बड़े क्रिटिक हैं। वह कहते हैं कि अब भूल जाओ, सो जाओ..पिक्चर बहुत बड़ी हिट है। बस इतना ही। वह कभी मेरे सामने आकर मेरी प्रशंसा नहीं करते हैं। मुझे कभी उनके द्वारा मेरी प्रशंसा सुनने का मौका नहीं मिला। कभी-कभार ही वह कहते हैं, अच्छा काम किया है।
‘भारत’ फिल्म की सफलता पर उन्होंने कहा, मेरे लिए मेरी सभी फिल्मों की सफलता बहुत महत्वपूर्ण है। भारत एक ऐसी फिल्म है जिसके लिए हमने काफी मेहनत की है..यह मेरी हर फिल्म के साथ होता है। मैं फिल्म में विश्वास करता हूं..मैं अभी बहुत खुश हूं कि फैंस फिल्म को पसंद कर रहे हैं और मैं इसकी प्रशंसा करता हूं। वास्तव में दर्शकों ने फिल्म में सबके प्रदर्शन को सराहा है..यह जबरदस्त है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *