आज की खबर आज
Agra

एडीए को नहीं दिखता शास्त्रीपुरम का नर्क!

  • वर्क आॅर्डर होने के बाद भी शुरू नहीं हो रहा सड़क निर्माण
  • सफाईकर्मियों की अकर्मण्यता से कालोनी में नारकीय हालात
शास्त्रीपुरम ए ब्लॉक की उधड़ी पड़ी मुख्य सड़क और बीचों-बीच पड़ा कूड़े का ढेर।

आगरा। आगरा विकास प्राधिकरण स्वयं द्वारा विकसित कालोनी के प्रति पूरी तरह उदासीन है। कहने को तो इस कालोनी की व्यवस्थाओं को देखने के लिये जूनियर, सीनियर अधिकारी और बाबुओं का स्टाफ तैनात है, लेकिन सभी की कालोनी की प्रति बेरुखी बनी हुई है।
कहने भर को स्मार्ट सिटी की ओर बढ़ रहे शहर के नारकीय हालात देखने हों तो शास्त्रीपुरम का दौरा किया जा सकता है। न तो यहां सफाई का नियमित इंतजाम है न सड़कों की देखरेख। विकास प्राधिकरण द्वारा कूड़ा उठाने के लिये कंटेनर न रखवाये जाने से कालोनी वासी पार्कों और खाली पड़े प्लॉटों को कूड़ा घर बना रहे हैं। कालोनी में हर ओर नालियां चोक रहती हैं। उनमें डेढ़ से दो फीट तक सिल्ट जमा है।
शास्त्रीपुरम ए ब्लॉक की सड़क विगत कई साल से उखड़ी पड़ी है। सड़क पर आये दिन राहगीर चुटैल होते रहते हैं। क्षेत्रीय निवासियों की कई शिकायतों के बाद जैसे-तैसे एडीए ने टेंडर निकाला और उसे स्वीकृत कर ठेकेदार जेपी यादव के नाम वर्क आॅर्डर भी कर दिया। लेकिन ठेकेदार सड़क निर्माण शुरू करने का नाम ही नहीं ले रहा है। कहने को तो विभागीय जेई व एई आये दिन कालोनी स्थित साइट आफिस पर उपस्थिति दर्ज कराते हैं, लेकिन उन्हें समस्याओं से कोई लेना-देना नहीं है।
गंदगी का आलम यह है कि मुख्य सड़क पर बीचों-बीच कूड़े का बड़ा ढेर बना दिया गया है। नियमित रूप से साफ न होने से नालियां दिखनी ही बंद हो गई हैं। वे सिल्ट से ऊपर तक बढ़ चुकी हैं और झाड़-झंखाड़ से पूरी तरह ढंक गई हैं। सफाई ठेकेदार की काम कराने में रुचि नहीं है, वह आये दिन क्षेत्र बड़ा होने और सफाई कर्मचारी कम होने का बहाना बना देता है। जब कभी दिखने वाले सफाईकर्मियों से सफाई की कहने पर वे झाड़ू या नाली साफ करने के उपकरण न होने का बहाना बना देते हैं। कालोनी के नारकीय हालात से परेशान लोग शिकायत कर-कर के थक चुके हैं और अनेक लोगों ने तो आजिज आकर दूसरी कालोनियों में निवास तलाशना शुरू कर दिया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *