आज की खबर आज
Agra

सपा से गठबंधन कर मायावती ने दलित समाज की नाक कटा दी

भाजपा विधायक डॉ. धर्मेश बोले- बसपा अध्यक्ष के लिए जान लेने की कोशिश करने वाला जान बचाने वाले से बड़ा हो गया

आगरा छावनी के भाजपा विधायक डॉ. जीएस धर्मेश ने कहा कि बसपा की अध्यक्ष मायावती ने लोकसभा चुनाव के लिए सपा के साथ गठबंधन कर दलित समाज की नाक कटा दी है। मैनपुरी में सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव के साथ मंच साझा करके मायावती ने सिद्ध कर दिया है कि उनके लिए जान बचाने वाले से जान लेने की कोशिश करने वाला बड़ा हो गया है।
मैनपुरी की रैली में मायावती के इस कथन कि जनता के हित में कभी कुछ कड़े फैसले लेने पड़ते हैं, पर तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए डॉ. धर्मेश ने कहा कि दोनों दलों के गठबंधन का फैसला जनता के हित के लिए नहीं बल्कि सपा-बसपा के नेताओं ने अपने निजी स्वार्थ की खातिर आय से अधिक संपत्ति मामले में चल रही जांच व कार्यवाही से बचने के लिए किया है। उन्होंने कहा कि 1995 में लखनऊ के स्टेट गेस्ट हाउस कांड में तत्कालीन मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव के इशारे पर ही हथियारबंद लोगों ने गैस सिलेंडर में आग लगाकर समूचे गेस्ट हाउस को उड़ाकर बसपा नेता मायावती की हत्या की पूरी तैयारी कर ली थी। यदि समय रहते भाजपा नेता ब्रह्मदत्त द्विवेदी अपने साथियों के साथ गेस्ट हाउस न पहुंचे होते तो मायावती का क्या होता, इसका अंदाजा लगाया जा सकता है।
भाजपा विधायक ने कहा कि मुख्यमंत्री रहते हुए मायावती ने दलित समाज का कुछ भला नहीं किया। सच्चाई यह है कि उन्होंने दलित समाज के वोटों की नीलामी कर दलित समाज को हमेशा अपमानित किया है। उन्होंने अपने सीएम काल में एससी-एसटी कानून को कमजोर किया। इससे उन्होंने दलितों का अहित और बाबा साहेब आंबेडकर का अपमान किया। इसके विपरीत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपनी सरकार के रहते डॉ. आंबेडकर और दलित समाज को जितना सम्मान दिया है, उतना पहले किसी सरकार ने नहीं दिया। बसपा अध्यक्ष मायावती को भी तीन-तीन बार मुख्यमंत्री बनाकर भाजपा ने ही दलित समाज को सम्मान दिया। उन्होंने कहा कि बसपा का सपा से गठबंधन कराने के पीछे सतीश मिश्रा का हाथ है जो मायावती को राजनीतिक गर्त में ले जाने का काम कर रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *