आज की खबर आज
Agra

स्वतंत्रता की देवी हमने तुझ पर कितने फूल चढ़ाए

जलियावाला कांड के सौ वर्ष पूर्ण होने व शिरोमणि बंधुओं की याद में आयोजित किया गया कार्यक्रम

उनमें त्याग, समर्पण और सेवा की भावना सर्वोपरि थी। आजादी की लड़ाई में उन्होंने सक्रिय भूमिका निभाई। देश आजाद होने के बाद वह राजनीति से हमेशा दूर रहे और अपना सम्पूर्ण जीवन पिछड़ा वर्ग के उत्थान के लिए समर्पित कर दिया। वक्ताओं ने यह बात जलियांवाला बाग कांड के 100 वर्ष पूर्ण होने पर पर शिरोमणि बंधुओं की याद में आयोजित यादगार ए शहीद कार्यक्रम में कही।
बालूगंज, लताकुंज में आयोजित कार्यक्रम का शुभारम्भ वरिष्ठ कांग्रेस नेता शशि शिरोमणि ने राम धुन रघुपति राघव राजा राम… गाकर किया। अतिथियों का स्वागत आईएमए के अध्यक्ष डॉ. अशोक शिरोमणि ने किया। मुख्य अतिथि डीएलए के प्रधान संपादक अजय अग्रवाल एवं पूर्व विधायक चौधरी बदन सिंह ने शिरोमणि बंधु स्व. प्रकाश नारायण शिरोमणि और स्व. गोपाल नारायण शिरोमणि की तस्वीर पर माल्यार्पण किया।
आचार्य दत्ताचार्य पंडित ने कहा कि अपने केन्द्र से दूर जाओगे तो शांत हो जाओगे। हमें जीवन के महत्व को समझकर आत्मा के केन्द्र पर आना होगा। स्वतंत्रता सेनानी रानी सरोज गौरिहार, पूर्व कुलपति डॉ. जीसी सक्सेना एवं वरिष्ठ पत्रकार राजीव सक्सेना ने शिरोमणि बंधुओं के जीवन पर प्रकाश डालते हुए कहा कि वह हमेशा गांधीवादी तरीके से जीए और आज भी उनका परिवार इस परम्परा को निभा रहा है। पूर्व सांसद निहाल सिंह ने कहा कि शिरोमणि बंधुओं ने स्वतंत्रता संग्राम के दौरान अपनी जान की परवाह किए बगैर पत्रकारिता के क्षेत्र में भी अपना अहम योगदान दिया। संगीतकार केशव तलेगांवकर ने बैष्णव जन तो… व स्वतंत्रता की देवी तुझ पर हमने कितने फूल चढ़ाए…., डॉ. शशि तिवारी ने जो देश पर स्वयं को मिटाकर चले गए… एवं अश्वनी शिरोमणि ने वतन की राह में वतन के नौजवां शहीद हो… गीत प्रस्तुत किया। संचालन शशि शिरोमणि ने किया।
पूर्व विधायक डॉ. अनुराग शुक्ला, डीएलए के डाइरेक्टर हेमंत आनंद, डॉ. अमोल शिरोमणि, डॉ. असीम, सुशील सरित, पुरुषोत्तम दत्ता, विजय शर्मा, शिवशंकर खंडेलवाल, किरन शर्मा, डॉ. माला, अम्बरीश पटेल, हाकिम सिंह त्यागी, सुभाषचंद्र गुप्त, ललित सत्संगी, दया शंकर, मौ. यासीन, डॉ. नारायण सिंह, नीरज स्वरूप आदि की मौजूदगी उल्लेखनीय थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *