आज की खबर आज
Agra

भाजपा में रामवीर व सीमा के जाने की अटकलें थमीं

बसपा में था और बसपा में ही रहूंगा: रामवीर उपाध्याय

पूर्व मंत्री रामवीर उपाध्याय एवं पूर्व सांसद सीमा उपाध्याय के भाजपा में जाने के कयासों पर स्वयं पूर्व मंत्री रामवीर उपाध्याय ने गत दिवस पूर्ण विराम लगा दिया। उन्होंने अपने आवास पर पत्रकारों से बातचीत में कहा कि मीडिया एवं कुछ लोगों द्वारा उनके भाजपा में जाने को लेकर भ्रामक सूचनाएं फैलाई जा रही हैं। वह बसपा में थे और बसपा में ही रहेंगे। बसपा सुप्रीमो का जो आदेश होगा, उसका पालन करेंगे। पत्रकारों द्वारा पूछे गए प्रश्नों के उत्तर में उन्होंने कहा कि वह भाजपा में न किसी से मिले और न ही उनसे कोई भाजपा का व्यक्ति मिला। उन्होंने कहा कि पिछले कई दिनों से यह चर्चा है कि मैं भाजपा में जा रहा हूं। अलीगढ़ या फतेहपुरसीकरी सीट से वह या सीमा उपाध्याय भाजपा प्रत्याशी हो सकती हैं। पूर्व मंत्री ने कहा कि सीमा उपाध्याय ने नौ मार्च को जब से फतेहपुरसीकरी लोकसभा सीट से बसपा की अपनी उम्मीदवारी छोड़ी है तभी से इस तरह की भ्रामक खबरें आना शुरू हुई हैं। उनके भाजपा में जाने को लेकर तरह-तरह की प्रतिक्रियाएं सोशल मीडिया पर सामने आ रही हैं। उन्होंने कहा कि वह 1996 से बसपा के कार्यकर्ता हैं। बसपा सुपीमो मायावती से उन्होंने कभी टिकट नहीं मांगी और चुनाव जीतने के बाद कभी मंत्री पद दिए जाने को नहीं कहा। 1996 से अब तक लगातार विधायक चुने गए और बसपा सुपीमो मायावती ने उन्हें इस बीच परिवहन एवं ऊर्जा मंत्री के महत्वपूर्ण मंत्रालय दिए। फतेहपुरसीकरी से न लड़ने के सवाल पर उन्होंने कहा कि उनके गले में काफी दिक्कत है, उनका गला ठीक तरह से काम नहीं कर रहा है। इसके बाद भी अगर बसपा सुपीमो मायावती उन्हें किसी जगह से चुनाव लड़ने को कहती हैं तो वह उनके निर्देशों का पालन करेंगे।
श्री उपाध्याय ने अपने समर्थकों एवं पार्टी के कार्यकर्ताओं से स्पष्ट किया है कि फतेहपुरसीकरी लोकसभा क्षेत्र से सीमा उपाध्याय के चुनाव न लड़ने के पीछे पारिवारिक परिस्थितियों एवं उनका स्वास्थ्य खराब होना है। इस बात को अन्यथा न लिया जाए। वह बसपा के लिए पूरी ताकत के साथ इन चुनावों में काम करेंगे। उन्होंने बसपा के अगले कई कार्यक्रमों का जिक्र करते हुए कहा कि वे निरंतर इनमें भागेदारी कर रहे हैं। खराब स्वास्थ्य एवं पारिवारिक परिस्थितियों की वजह से उन्होंने बसपा सुप्रीमो को चुनाव न लड़ पाने के बारे में अवगत कराया था कि जिस पर बसपा सुप्रीमो ने उन्हें स्वीकृति दे दी। इसके लिए उन्होंने बसपा सुप्रीमो का आभार प्रकट किया। उन्होंने दूसरे दलों में जाने की सभी अटकलों पर विराम लगाते हुए मीडिया से भी आग्रह किया कि तरह की खबरों को तूल न दिया जाए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *