आज की खबर आज
Agra

वेस्ट-टू-एनर्जी प्लांट को मिल सकती है एनओसी!

  • सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर बनी कमेटी ने किया निरीक्षण
  • बैठक में जताई है मूक सहमति, निगम अफसरों में खुशी

शहर के अंदर कूड़े के ढेर एवं बाहर लगे टापुओं की समस्या के समाधान के लिए कुबेरपुर में लगने वाले वेस्ट-टू-एनर्जी प्लांट का रास्ता लगभग साफ हो चुका है। जल्द ही एनओसी मिलने की संभावना है।
सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर गठित कमेटी ने बुधवार को कुबेरपुर खत्ताघर का निरीक्षण किया। यहां लगे कूड़े के टापुओं को कमेटी ने देखा। एनओसी के लिए मानकों को भी परखा। नगर निगम के अफसरों से वेस्ट-टू-एनर्जी प्लांट की बारीकी से जानकारी की। इससे जुड़े कुछ सवाल किये, जिनके जवाब निगम अफसरों ने दिये। इसके बाद कमेटी ने नगर निगम स्थित स्मार्ट सिटी के सभागार में बैठक की। एयर क्वालिटी इंडेक्ट के आंकड़े उपलब्ध कराने के आदेश दिये।
पर्यावरण अभियंता राजीव कुमार राठी ने बताया कि वेस्ट-टू-एनर्जी प्लांट लगाने में करीब 400 करोड़ रुपये की लागत आएगी। इस प्लांट को स्पॉक ब्रेजन कम्पनी लगाएगी। कम्पनी 500 मीट्रिक टन कूड़े से दस मेगावॉट बिजली बनाएगी। यहां खत्ताघर 72 एकड़ में फैला हुआ है। 45 एकड़ भूमि खाली पड़ी है। स्पॉक ब्रेजन कम्पनी बिजली बनाने के साथ-साथ कूड़े की कैपिंग और बायोमाइनिंग करेगी।
बताया कि सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर गठित कमेटी ने मूक सहमति जताई है। कोर्ट में विजन डॉक्यूमेंट की सुनवाई चल रही है। टीटीजेड प्राधिकरण प्लांट को अनुमति नहीं दे रहा है। पर्यावरण अभियंता ने बताया कि इस प्लांट के लगने से कूड़ा निस्तारण करने में जो परेशानी आ रही है, वो दूर हो जाएगी। शहर से निकलने वाले कूड़े की अधिकांश मात्रा का निस्तारण हो जाएगा। बैठक में सीपीसीबी के डिप्टी डायरेक्टर डॉ. सुनील, नीरी के वैज्ञानिक डॉ. एसके गोयल, सुप्रीम कोर्ट की मॉनीटरिंग कमेटी के सदस्य रमन, मुख्य अभियंता एके सिंह शामिल रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *