आज की खबर आज
Sports

निर्णायक मैच में दबाव भारत पर

पांच वनडे मैचों की सीरीज में 2-2 से बराबर आॅस्ट्रेलिया-भारत

घर में टी-20 सीरीज गंवाने के बाद वनडे सीरीज पर भी खतरा

आॅस्ट्रेलिया की क्रिकेट टीम जब भारत आई थी तब किसी ने नहीं सोचा था कि वह मेजबान टीम को टक्कर दे पाएगी। आॅस्ट्रेलिया ने भारतीय जमीन पर कदम रखने के बाद सभी धारणाओं को खारिज किया और इस पांच मैचों की सीरीज 0-2 से पिछड़ने के बाद 2-2 से बराबरी पर ला दी, जिसका पांचवां और निर्णायक मैच आज दिल्ली के फिरोजशाह कोटला मैदान पर खेला जाएगा। ऐसे में दबाव भारत पर है। घरेलू सीरीज में उस पर टी-20 के बाद वनडे में भी हार का खतरा बना हुआ है।
पांच बार की विश्व विजेता सीरीज के शुरूआती दो मैच हार चुकी थी लेकिन उसने दमदार वापसी करते हुए लगातार दो मैच जीते और भारत को उस स्थिति में पहुंचा दिया जिसकी उम्मीद उसने अपने घर में शायद नहीं की होगी।
पहले दो मैच में भी आॅस्ट्रेलियाई टीम कम नहीं थी। उसने मेजबानों को बराबरी की टक्कर दी लेकिन अंतिम पलों में जीत उसके हाथ से निकल गई। लेकिन, आखिरी के दो मैचों में उसने ऐसा नहीं होने दिया। रांची में खेले गए तीसरे वनडे में उसने विशाल स्कोर खड़ा किया जिसे बचाने में उसके गेंदबाज सफल रहे। मोहाली में खेले गए चौथे वनडे में एश्टन टर्नर की तूफानी पारी के दम पर आॅस्ट्रेलिया ने भारत द्वारा रखे गए विशाल लक्ष्य को भी हासिल कर सीरीज में बराबर कर ली। टर्नर ने भारत के खिलाफ इसी सीरीज में हैदराबाद में ही वनडे में पदार्पण किया था। घरेलू क्रिकेट में फिनिशर के तौर पर मशहूर टर्नर ने भारतीय टीम के लिए नई चिंता खड़ी कर दी है। इस सीरीज को भारतीय टीम की विश्व कप की तैयारी के तौर पर देखा जा रहा है क्योंकि इसके बाद भारत कोई भी वनडे सीरीज नहीं खेलेगा, लेकिन इस तैयारी सीरीज में भी भारत के सामने कई समस्या सामने आई हैं जिन्हें इंग्लैंड जाने से पहले निपटाना उसके लिए जरूरी होगा।
भारत का मजबूत गेंदबाजी आक्रमण मोहाली में विशाल लक्ष्य को भी बचा नहीं पाया। ऐसा अमूमन कम ही देखने को मिलता है कि भारतीय गेंदबाज इतने रन खाएं, लेकिन बीते दो मैचों में आॅस्ट्रेलिया इस अपवाद की स्थिति को कोहली के सामने पेश कर गई। इस निर्णायक मैच में भी कोहली के सामने यह चिंता जरूर होगी कि उसके गेंदबाज आॅस्ट्रेलियाई बल्लेबाजों पर अंकुश लगाएं।
गेंदबाजी के अलावा भारत की बल्लेबाजी भी दिक्कत में रही है। विराट कोहली को छोड़कर टीम का कोई और बल्लेबाज अपने प्रदर्शन में निरंतरता नहीं दिखा सका है। शिखर धवन ने जरूर बीते मैच में शतक जमाया था। रोहित ने भी 95 रनों की पारी खेली थी, लेकिन यह दोनों निरंतरता की कमी से जूझ रहे हैं।
वहीं, आस्ट्रेलिया के लिए यह सीरीज अपने आप को समझने वाली साबित हुई है। मेजबान टीम ने जिस तरह की प्रतिस्पर्धा इस सीरीज में दिखाई है वह अपने घर में भी नहीं दिखा पाई थी। टीम ने खेल के हर विभाग में भारत को कड़ी चुनौती दी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *